शनिवार, 24 अगस्त 2013

सुनो गुज़ारिश बांकेबिहारी


सोने जैसा रूप है तेरा,
तुम पर जायूं मैं वारी
अब तो दर्श दिखाओ
ओ मेरे गिरिधारी|

सुन्दर छवि है तेरी
कजरारे हैं तेरे नैन
कब से राह निहारूं
तुम बिन मैं बेचैन|

गोकुल हुआ दीवाना
घर बार है सबका छूटा
इंसान हो तुम या देवा
यह भ्रम भी सबका टूटा|

नंदलाल कहूँ, कन्हैया कहूँ
कृष्ण कहूँ या कहूँ गिरिधारी
तुम ही करोगे पार यह नैया 
सुनो गुज़ारिश बांकेबिहारी
__________



Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...