गुरुवार, 18 अप्रैल 2013

तेरे मन में राम [श्री अनूप जलोटा ]


तन के भीतर पांच लुटेरे डाल रहे हैं ढेरा 
काम क्रोध मद्ध लोभ मोह ने तुझको कैसा घेरा 
भूल गया तू राम रटन,भूला पूजा का काम रे 
बोलो राम बोलो राम बोलो राम राम राम 
रामनवमी की मंगलकामनाएँ 

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...