शनिवार, 15 जून 2013

बांके बिहारी! ए गिरिधारी! मेरी बारी कहाँ गए ?





अखियाँ तरसें दर्श को तेरे, कुंजबिहारी कहाँ गये?
 बाँके बिहारी, ए गिरिधारी ,मेरी बारी कहाँ गये?

द्वारका गलियाँ,तुझ बिन सूनी, श्याम न्यारे कहाँ गये?
 बाँके बिहारी, ए गिरिधारी ,मेरी बारी कहाँ गये?






 गोकुल की गैया,बलराम पुकारे, नंद दुलारे कहाँ गये?
 बाँके बिहारी, ए गिरिधारी ,मेरी बारी कहाँ गये?

वृंधावन पूछे, राधा पुकारे,ए मोहन प्यारे कहाँ गये?
 बाँके बिहारी, ए गिरिधारी ,मेरी बारी कहाँ गये?






अर्जुन व्याकुल सारथी के बिन,पार्थ के प्यारे कहाँ गये?
 बाँके बिहारी, ए गिरिधारी ,मेरी बारी कहाँ गये?

कलयुग आया,अनर्थ है लाया,सबके सहारे कहाँ गये?
 बाँके बिहारी, ए गिरिधारी ,मेरी बारी कहाँ गये ??

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...